जीपीएस क्या है? GPS kya hai?

जीपीएस क्या है? GPS kya hai?

जीपीएस क्या है? GPS kya hai?
जीपीएस क्या है? GPS kya hai?

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताने वाली है कि जीपीएस क्या है? आप लोगों ने जीपीएस का नाम तो पहली सुना ही होगा या फिर आपने अपनी मोबाइल में GPS का ऑप्शन तो देखने को मिलता ही है जो आपने अपनी माल में देखा ही होगा कोई भी एप्लीकेशन जब आप ओपन करते हैं तो आपका मोबाइल जीपीएस वाली ऑप्शन को ऑन करने को कहता है इस प्रकार आप लोगों को जीपीएस ऑन करने की जरूरत पड़ जाती है तो जीपीएस से हम लोगों को क्या लाभ होता है तो आज के इस आर्टिकल में हम जी के विषय में बात करने वाले हैं।

तो दोस्तों आज हम जाने वाले हैं कि जीपीएस की फुल फॉर्म क्या होती है? Global positioning system, दोस्तों यह जीपीएस का एक Global Navigation satellite system होता है जो कि आप लोग किसी भी वस्तु की लोकेशन आसानी से पता करने के लिए इसका इस्तेमाल या यूज कर सकते हैं इस सिस्टम से आप लोगों को सबसे पहले America के defence department के जरिए 1960 में तैयार किया गया था और इस टाइम से यह सिस्टम सिर्फ 27 अप्रैल 1995 मैं यह सभी लोगों के लिए तैयार किया गया था और आज के समय हम अपने मोबाइल में भी आसानी से देखने को जाता है और इसी प्रकार टेक्नोलॉजी का सबसे ज्यादा अधिक यूज किया जाने वाला नेविगेशन और रास्ता सर्च करने के लिए आसानी से किया जा सकता है।

आप बात करें तो दोस्तों आज के समय टेक्नोलॉजी बहुत ज्यादा यूज होने लगी है इसे आप लोग अपने मोबाइल में, बस में, रेलवे, ट्रेन में, और हवाई जहाज में यूज आसानी से कर सकते हैं जैसा कि मैंने हम आप लोगों को बताया है कि उसका यूज़ आप लोग रास्ते मैं भी अधिक इस्तेमाल कर सकते हैं इसी प्रकार आप चाहे तो ट्रांसपोर्ट में इतना अधिक यूज़ होता रहता है कि किसकी सहायता से हम कहीं पर भी रास्ते को बहुत ही आसान तरीके से जान सकते हैं और हम अपनी लोकेशन के द्वारा किसी भी रास्ते की जानकारी बहुत ही कम समय में आसानी से लगा सकते हैं।

जीपीएस से क्या होता है?

तो जीपीएस की बात करें तो जीपीएस से हम लोग satellite से जुड़कर काम आसानी से कर सकते हैं इसके लिए आज के समय अमेरिका ने 50 से अधिक जीपीएस satellite पृथ्वी से बाहर बहुत अधिक हो चुका है यह सभी सैटेलाइट सभी टाइम पृथ्वी पर signal इधर-उधर भेजता रहता है और इन सब को रिसीव करने के लिए हम सबको रिसीवर की आवश्यकता होती है अगर आप लोगों का फोन किसी भी कारण से सिंगल प्राप्त करने लग जाता है तो के लिए आपको चार सेटेलाइट इस प्रकार आपकी सभी लोकेशन को चेक कर सकता है अच्छी प्रकार से लोकेशन की पता पड़ जाता है और यह सेटेलाइट आप की लोकेशन एकदम सही प्रकार से बताएगी यह केवल location नहीं होती है दोस्तों आपकी स्पीड, और दूरी इसी प्रकार एक जगह से दूसरी जगह सब कुछ आपको आसानी से बता देती है।

जीपीएस किस तरीके से काम करता है?

जैसा कि दोस्तों हमने आप लोगों को इसके बारे में ऊपर बता दिया है कि हमारा मोबाइल मोबाइल जीपीएस रिसीवर की प्रकार ही वर्क करता है हम सभी का फोन सबसे पहले किसी पास की सेटेलाइट से कनेक्ट करना पड़ता है और यह आपके पास के चार सेटेलाइट से कनेक्ट करना होता है और इस पर कार्य 4 आप की लोकेशन स्पीड को अच्छी प्रकार से आसानी से बता देता है।

Mk PUBG GURU

Download

जीपीएस लॉगिन कैसे करें?

अगर आप लोग अब अपने मोबाइल में जीपीएस लॉगइन करना चाहते हैं तो इसके लिए आप लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि अब हम आप लोगों को इस आर्टिकल में जीपीएस को लोगिन करने की बारे में पूरी डिटेल्स विस्तार से बताने वाले हैं जो आपके लिए बहुत ही उपयोगी होगी। अगर आप लोगों को किसी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल करनी है घर के बारे में आप लोगों को जीपीएस ट्रैक करने का यूज किया और दोस्तों यह सब आपकी जीपीएस load ट्रैकर पर ही निर्भर करता है यदि आप लोग किसी गाड़ी को चलाते हैं।

तो अगर आपकी गाड़ी की स्पीड कम होगी और उसकी लोकेशन आपको इसके पति के बारे में जानना हो तो समय लगता है इसके लिए जीपीएस लॉगइन इस बात पर निर्भर करता है कि किस अवस्था में आप लोगों की जीपीएस रिसीवर को प्रारंभ किया है इसी प्रकार जीपीएस लोग इन तीन प्रकार से आप कर सकते हैं नंबर 1 हॉट, दो वर्क, नंबर 3 कोल्ड, इसी प्रकार यह तीन प्रकार के होते हैं तो अब हम आपको लॉग इन करने का पूरा प्रोसेस अब जीपीएस के बारे में नीचे बताने वाले हैं।

Hot start कैसे इस्तेमाल करें?

यदि आप लोग जीपीएस को अंतिम कंडीशन और सेटेलाइट के साथ ही यूटीसी समय के पते के बारे में जानकारी है तो आप इतनी सेटेलाइट की सहायता से अपने हिसाब की तरीके से इस कंडीशन की स्थिति जान सकते हैं और इसका व्रत करने की प्रणाली आपकी नई स्थिति पर ही आत्म निर्भर करती है अगर आप लोग अपना जीपीएस रिसीवर पहले वाली लोकेशन पर ऐड कर देती हैं या कनेक्ट कर देते हैं तो आपको यह ट्रैकिंग करने में बहुत ज्यादा सहायता करता है और इस प्रकार आप बहुत ही जल्दी से और आसान तरीका से इसे ट्रैकिंग कर सकते हैं।

Warm start क्या है?

अगर आप जीपीएस रिसीवर तेरी वाली सेटेलाइट की नॉलेज के अतिरिक्त आप लोगों का पुराना नॉलेज पर याद रखते हैं तो आप इसलिए रिसीवर अपना पूरा डाटा सेट करके आसानी से रख लेते हैं और प्रकार आपकी नई कंडीशन की जानकारी के बारे में पता लगाना आपको सेटेलाइट की सिंगल की जरूरत होगी लेकिन सेटेलाइट की नॉलेज आपको बहुत ही जल्दी-जल्दी प्राप्त हो जाएगी यह हॉटस्टार्ट में तो सबसे धीमी होती है।

Cold start क्या है?

इस कंडीशन के बारे में कोई भी जानकारी आप लोगों को नहीं है तो यह डिवाइस की अंदर सभी प्रकार की नॉलेज आपको जीपीएस सेटिंग नाइट आज की कंडीशन जानना बहुत ही आवश्यक होता है जैसा कि आप सेटेलाइट की जीपीएस आज की जानकारी की स्थिति पता करना प्रारंभ कर देते हैं तो यह कंडीशन में सबसे पहले थे आप अधिक टाइम लग जाता है क्योंकि दोस्तों यह प्रारंभ में ही काम करता है।

मैं उम्मीद करता हूं कि आप लोग कब जा चुके होंगे कि जीपीएस क्या होता है और जीपीएस किस प्रकार वर्क करता है बस मैं आपसे की आशा करता हूं अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई तो अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें कमेंट करें जिससे आपको नई पोस्ट बहुत अधिक पसंद आने लगी जिस प्रकार आपको नेक्स्ट पोस्ट के लिए बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment